India Forum
Welcome to Proud2BIndian

Welcome to the India Forum.

Page 1 of 2 12 LastLast
Results 1 to 15 of 27

Patriotic Shayari (Hindi)

  1. #1
    Member National's Avatar
    Join Date
    Mar 2009
    Location
    Bharat
    Posts
    224
    Thanks
    0
    Thanks
    Thanked 0 Times in 0 Posts
    Rep Power
    6
    Location:
    Bharat
    Country:
    India

    Default Patriotic Shayari (Hindi)

    सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
    देखना है ज़ोर कितना बाज़ुए कातिल में है


    करता नहीं क्यूँ दूसरा कुछ बातचीत,
    देखता हूँ मैं जिसे वो चुप तेरी महफ़िल में है
    ए शहीद-ए-मुल्क-ओ-मिल्लत मैं तेरे ऊपर निसार,
    अब तेरी हिम्मत का चरचा गैर की महफ़िल में है
    सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है


    वक्त आने दे बता देंगे तुझे ए आसमान,
    हम अभी से क्या बतायें क्या हमारे दिल में है
    खैंच कर लायी है सब को कत्ल होने की उम्मीद,
    आशिकों का आज जमघट कूच-ए-कातिल में है
    सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है


    है लिये हथियार दुशमन ताक में बैठा उधर,
    और हम तैय्यार हैं सीना लिये अपना इधर.
    खून से खेलेंगे होली गर वतन मुश्किल में है,
    सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है


    हाथ जिन में हो जुनून कटते नही तलवार से,
    सर जो उठ जाते हैं वो झुकते नहीं ललकार से.
    और भड़केगा जो शोला-सा हमारे दिल में है,
    सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है


    हम तो घर से निकले ही थे बाँधकर सर पे कफ़न,
    जान हथेली पर लिये लो बढ चले हैं ये कदम.
    जिन्दगी तो अपनी मेहमान मौत की महफ़िल में है,
    सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है


    यूँ खड़ा मौकतल में कातिल कह रहा है बार-बार,
    क्या तमन्ना-ए-शहादत भी किसि के दिल में है.
    दिल में तूफ़ानों कि टोली और नसों में इन्कलाब,
    होश दुश्मन के उड़ा देंगे हमें रोको ना आज.
    दूर रह पाये जो हमसे दम कहाँ मंज़िल में है,


    वो जिस्म भी क्या जिस्म है जिसमें ना हो खून-ए-जुनून
    तूफ़ानों से क्या लड़े जो कश्ती-ए-साहिल में है,
    सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
    देखना है ज़ोर कितना बाज़ुए कातिल में है

    -रामप्रसाद बिस्मिल

  2. #2
    Member National's Avatar
    Join Date
    Mar 2009
    Location
    Bharat
    Posts
    224
    Thanks
    0
    Thanks
    Thanked 0 Times in 0 Posts
    Rep Power
    6
    Location:
    Bharat
    Country:
    India

    Default

    सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्ताँ हमारा
    सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्ताँ हमारा
    हम बुलबुलें हैं इसकी, ये गुलिस्ताँ हमारा

    ग़ुरबत में हों अगर हम, रहता है दिल वतन में
    समझो वहाँ हमें भी, दिल हो जहाँ हमारा

    परबत वो सबसे ऊँचा, हमसाया आसमाँ का
    वो सन्तरी हमारा, वो पासबाँ हमारा

    गोदी में खेलतीं हैं, इस के हज़ारों नदियाँ
    गुलशन हैं जिन के दम से, रश्क़-ए-जनाँ हमारा

    ऐ आब-ए-रूद-ए-गँगा, वो दिन है याद तुझको
    उतरा तेरे क़िनारे, जब कारवाँ हमारा

    मज़हब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना
    हिन्दी हैं हम वतन है, हिन्दोस्ताँ हमारा

    यूनान-ओ-मिस्र-ओ-रोमाँ सब मिट गये जहाँ से
    अब तक मगर है बाक़ी नाम-ओ-निशाँ हमारा

    कुछ बात है के हस्ती मिटती नहीं हमारी
    सदियों रहा है दुशमन दौर-ए-ज़माँ हमारा

    'इक़्बाल' कोई मरहम अपना नहीं जहाँ में
    मालूम क्या किसी को दर्द-ए-निहाँ हमारा


    - अल्लामा इक़्बाल

  3. #3
    Member National's Avatar
    Join Date
    Mar 2009
    Location
    Bharat
    Posts
    224
    Thanks
    0
    Thanks
    Thanked 0 Times in 0 Posts
    Rep Power
    6
    Location:
    Bharat
    Country:
    India

    Default

    हे मातृभूमि ! तेरे चरणों में शिर नवाऊँ ।
    मैं भक्ति भेंट अपनी, तेरी शरण में लाऊँ ।।

    माथे पे तू हो चंदन, छाती पे तू हो माला ;
    जिह्वा पे गीत तू हो मेरा, तेरा ही नाम गाऊँ ।।

    जिससे सपूत उपजें, श्री राम-कृष्ण जैसे;
    उस धूल को मैं तेरी निज शीश पे चढ़ाऊँ ।।

    माई समुद्र जिसकी पद रज को नित्य धोकर;
    करता प्रणाम तुझको, मैं वे चरण दबाऊँ ।।

    सेवा में तेरी माता ! मैं भेदभाव तजकर;
    वह पुण्य नाम तेरा, प्रतिदिन सुनूँ सुनाऊँ ।।

    तेरे ही काम आऊँ, तेरा ही मंत्र गाऊँ।
    मन और देह तुझ पर बलिदान मैं जाऊँ ।।

    -रामप्रसाद बिस्मिल

  4. #4
    Member National's Avatar
    Join Date
    Mar 2009
    Location
    Bharat
    Posts
    224
    Thanks
    0
    Thanks
    Thanked 0 Times in 0 Posts
    Rep Power
    6
    Location:
    Bharat
    Country:
    India

    Default

    कोई माता की ऊंमीदों पे ना ड़ाले पानी
    कोई माता की ऊंमीदों पे ना ड़ाले पानी
    जिन्दगी भर को हमें भेज के काला पानी
    मुँह में जलाद हुए जाते हैं छले पानी
    अब के खंजर का पिला करके दुआ ले पानी
    भरने क्यों जाये कहीं ऊमर के पैमाने को

    मयकदा किसका है ये जाम-ए-सुबु किसका है
    वार किसका है जवानों ये गुलु किसका है
    जो बहे कौम के खातिर वो लहु किसका है
    आसमां साफ बता दे तु अदु किसका है
    क्यों नये रंग बदलता है तु तड़पाने को

    दर्दमंदों से मुसीबत की हलावत पुछो
    मरने वालों से जरा लुत्फ-ए-शहादत पुछो
    चश्म-ऐ-खुश्ताख से कुछ दीद की हसरत पुछो
    कुश्त-ए-नाज से ठोकर की कयामत पुछो
    सोज कहते हैं किसे पुछ लो परवाने को

    नौजवानों यही मौका है उठो खुल खेलो
    और सर पर जो बला आये खुशी से झेलो
    कौंम के नाम पे सदके पे जवानी दे दो
    फिर मिलेगी ना ये माता की दुआएं ले लो

    देखे कौन आता है ईर्शाथ बजा लाने को

    -रामप्रसाद बिस्मिल

  5. #5
    Member National's Avatar
    Join Date
    Mar 2009
    Location
    Bharat
    Posts
    224
    Thanks
    0
    Thanks
    Thanked 0 Times in 0 Posts
    Rep Power
    6
    Location:
    Bharat
    Country:
    India

    Default

    ऐ मातृभूमि!
    ऐ मातृभूमि तेरी जय हो, सदा विजय हो
    प्रत्येक भक्त तेरा, सुख-शांति-कांतिमय हो
    अज्ञान की निशा में, दुख से भरी दिशा में
    संसार के हृदय में तेरी प्रभा उदय हो

    तेरा प्रकोप सारे जग का महाप्रलय हो
    तेरी प्रसन्नता ही आनंद का विषय हो

    वह भक्ति दे कि 'बिस्मिल' सुख में तुझे न भूले
    वह शक्ति दे कि दुख में कायर न यह हृदय हो


    - रामप्रसाद बिस्मिल

  6. #6
    Member National's Avatar
    Join Date
    Mar 2009
    Location
    Bharat
    Posts
    224
    Thanks
    0
    Thanks
    Thanked 0 Times in 0 Posts
    Rep Power
    6
    Location:
    Bharat
    Country:
    India

    Default राष्ट्र प्रहरी

    राष्ट्र के प्रहरी सजग
    सतत सीमा पर सजग
    हाथ में हथियार है
    वार को तैयार है ।

    शत्रु पर आँखें टिकी
    सांस आहट पर रुकी
    सीमा न लांघ पाये
    दुश्मन न भाग पाये ।

    ठंड हो कितनी कड़क
    झुलसती गरमी भड़क
    परवाह न तूफान की
    गोलियों से जान की ।

    जान लेकर हाथ पर
    खड़ा सीमा हर पहर
    वीर बन पहरा सतत
    राष्ट्र की रक्षा निरत ।

    बस यही अरमान है
    वार देनी जान है
    चोट इक आये नही
    आन अब जाये नही ।

    बाढ़ हो तूफान हो
    आपदा अनजान हो
    वीर है तत्पर सदा
    निसार जान को सदा ।

    - कवि कुलवंत सिंह

  7. #7
    Member Eshasachdeva's Avatar
    Join Date
    Sep 2008
    Location
    Jodhpur , Rajasthan
    Posts
    81
    Thanks
    0
    Thanks
    Thanked 0 Times in 0 Posts
    Rep Power
    6
    Location:
    Jodhpur , Rajasthan
    Country:
    India

    Default मेरा भारत महान है।

    मेरा यह मानना है
    मेरा भारत सब दशों से महान है।
    नहीं है ऐसा कोई अन्य देश,
    युगों बीतने पर भी वैसा ही है परिवेश,
    विभिन्नता में एकता के लिए, प्रसिद्ध है हर प्रदेश,
    प्रेम, अहिंसा, भाईचारे का जो है देता संदेश।


    मेरा यह मानना है
    मेरा भारत सब देशों से महान है।
    ऋषि-मुनियों की जो है तपोभूमि,
    कई नदियों से भरी है ये पुण्य भूमि,
    प्रकृति का है मस्त नजारा यहाँ,
    छोड़ इसे जाए हम और अब कहाँ


    मेरा यह मानना है
    मेरा भारत सब देशों से महान है,
    जाति, धर्म का है जहाँ अनूठा संगम,
    देशभक्ति की लहर में, भूल जाते सब गम,
    देश के लिए मर मिटने को सब है तैयार,
    अरे दुनिया वालों, हम है बहुत होशियार,
    न छेड़ो हमें, कासर नहीं है हम खबरदार,
    अपनी माँ को बचाने, लेगें हम भी हथियार।

    मेरा यह मानना है
    मेरा भारत सब देशों से महान है ।

  8. #8
    New Member alexjay's Avatar
    Join Date
    Dec 2008
    Location
    New Delhi
    Posts
    6
    Thanks
    0
    Thanks
    Thanked 0 Times in 0 Posts
    Rep Power
    0
    Location:
    New Delhi

    Default आज यह दीवार

    हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए,

    इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए।

    आज यह दीवार, परदों की तरह हिलने लगी,

    शर्त लेकिन थी कि ये बुनियाद हिलनी चाहिए।

    हर सड़क पर, हर गली में, हर नगर, हर गाँव में,

    हाथ लहराते हुए हर लाश चलनी चाहिए।

    सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं,

    सारी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए।

    मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही,

    हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए।

  9. #9
    New Member
    Join Date
    Jul 2009
    Posts
    1
    Thanks
    0
    Thanks
    Thanked 0 Times in 0 Posts
    Rep Power
    0

    Default Utho Jawano, Bhaarat Maa Ke Diwano

    Utho Jawano, Bhaarat Ma Ke Diwano, Dushman Ko Lalkar Do,
    Jo Dale, Bharat Ma Pe Najare, Uase Maut Ke Ghat Utar Do|
    Utho Jawano, Bhaarat Maa Ke Diwano……………………………..


    Bharat Vansh Ke Vanshaj Tum Ho, Maharana Ke Poot Ho|
    Desh Ki Khatir, Jaan Luta De, Aaise Tum Sapoot Ho|
    Aan Padi Hai, Jo Maa Par Bipada, Bete Tum Wo Utar Do,
    Utho Jawano, Bhaarat Maa Ke Diwano ....................


    Dushman Humare Ghar Mein Ghuskar, Macha Raha Utpaat Hai,
    Nirdosho Ki Hatya Karke, Karta Wo Maa Pe Aaghaat Hai|
    Mere Desh Ke Veer Jawano, Dushman Ke Shish Utaar Do,
    Utho Jawano, Bhaarat Maa Ke Diwano……………………………..


    Tum Akele Nahi Ho Bandhu, Hum Bhi Tumhare Saath Hai,
    Jism Bhale Hi Door Ho Tumse, Dil Se Tumhare Paas Hai|
    Badho Bhaarat Ke Amar Sapooto, Dushman Ko Muhtod Jawab Do,
    Utho Jawano, Bhaarat Maa Ke Diwano……………………………..


    Jo Mit Gaye, Maa Ki Khatir, Unhe Shat – Shat Mera Pranaam Hai,
    Ye Tuchchh Bhavbhini Shradhanjali, Un Veer Shahido Ke Naam Hai|
    Tum Bhi Unke Path Pe Chalkar, Ek Naya Itihaas Do,
    Utho Jawano, Bhaarat Maa Ke Diwano, Dushman Ko Lalkar Do,
    Jo Dale, Bharat Maa Pe Najare, Uase Maut Ke Ghat Utar Do|



    Utho Jawano, Bhaarat Maa Ke Diwano……………………………..

    Jai Hind ! Jai Bharat !

  10. #10
    Member Eshasachdeva's Avatar
    Join Date
    Sep 2008
    Location
    Jodhpur , Rajasthan
    Posts
    81
    Thanks
    0
    Thanks
    Thanked 0 Times in 0 Posts
    Rep Power
    6
    Location:
    Jodhpur , Rajasthan
    Country:
    India

    Default भारत माँ की जय हो !

    मुकुट शीश उन्नत शिखर
    पदतल गहरा विस्तृत सागर
    शोभित करती सरिताएं हों
    जय हो ! भारत माँ की जय हो !

    सत्य, अहिंसा, त्याग भावना
    सर्वमंगल कल्याण प्रार्थना
    जन - जन हृदय महक रहा हो
    जय हो ! भारत माँ की जय हो !

    पुरा संस्कृति उत्थान यहीं पर
    धर्म अनेक उद्गम यहीं पर
    पर उपकार सार निहित हो
    जय हो ! भारत माँ की जय हो !

    विद्वानो, वीरों की पुण्य धरा
    बलिदानों से इतिहास भरा
    तिलक रक्त मस्तक धरा हो
    जय हो ! भारत माँ की जय हो !

    साहित्य, खगोल, आयुर्विज्ञान
    योग, अध्यात्म, अद्वैत, ज्ञान
    ज्ञानी, दृष्टा, ऋषि, गुणी हों
    जय हो ! भारत माँ की जय हो !

    राष्ट्र उत्थान भाव निहित हो
    धर्म दया से अनुप्राणित हो
    जग में भारत विस्तारित हो
    जय हो ! भारत माँ की जय हो !

    -कवि कुलवंत सिंह

  11. #11
    Member Eshasachdeva's Avatar
    Join Date
    Sep 2008
    Location
    Jodhpur , Rajasthan
    Posts
    81
    Thanks
    0
    Thanks
    Thanked 0 Times in 0 Posts
    Rep Power
    6
    Location:
    Jodhpur , Rajasthan
    Country:
    India

    Default

    ये तिरंगा ये तिरंगा ये हमारी शान है
    विश्व भर में भारती की ये अमिट पहचान है।
    ये तिरंगा हाथ में ले पग निरंतर ही बढ़े
    ये तिरंगा हाथ में ले दुश्मनों से हम लड़े
    ये तिरंगा दिल की धड़कन ये हमारी जान है

    ये तिरंगा विश्व का सबसे बड़ा जनतंत्र है
    ये तिरंगा वीरता का गूँजता इक मंत्र है
    ये तिरंगा वंदना है भारती का मान है

    ये तिरंगा विश्व जन को सत्य का संदेश है
    ये तिरंगा कह रहा है अमर भारत देश है
    ये तिरंगा इस धरा पर शांति का संधान है

    इसके रेषों में बुना बलिदानियों का नाम है
    ये बनारस की सुबह है, ये अवध की शाम है
    ये तिरंगा ही हमारे भाग्य का भगवान है

    ये कभी मंदिर कभी ये गुरुओं का द्वारा लगे
    चर्च का गुंबद कभी मस्जिद का मिनारा लगे
    ये तिरंगा धर्म की हर राह का सम्मान है

    ये तिरंगा बाईबल है भागवत का श्लोक है
    ये तिरंगा आयत-ए-कुरआन का आलोक है
    ये तिरंगा वेद की पावन ऋचा का ज्ञान है

    ये तिरंगा स्वर्ग से सुंदर धरा कश्मीर है
    ये तिरंगा झूमता कन्याकुमारी नीर है
    ये तिरंगा माँ के होठों की मधुर मुस्कान है

    ये तिरंगा देव नदियों का त्रिवेणी रूप है
    ये तिरंगा सूर्य की पहली किरण की धूप है
    ये तिरंगा भव्य हिमगिरि का अमर वरदान है

    शीत की ठंडी हवा, ये ग्रीष्म का अंगार है
    सावनी मौसम में मेघों का छलकता प्यार है
    झंझावातों में लहरता ये गुणों की खान है

    ये तिरंगा लता की इक कुहुकती आवाज़ है
    ये रवि शंकर के हाथों में थिरकता साज़ है
    टैगोर के जनगीत जन गण मन का ये गुणगान है

    ये तिंरगा गांधी जी की शांति वाली खोज है
    ये तिरंगा नेता जी के दिल से निकला ओज है
    ये विवेकानंद जी का जगजयी अभियान है

    रंग होली के हैं इसमें ईद जैसा प्यार है
    चमक क्रिसमस की लिए यह दीप-सा त्यौहार है
    ये तिरंगा कह रहा- ये संस्कृति महान है

    ये तिरंगा अंदमानी काला पानी जेल है
    ये तिरंगा शांति औ' क्रांति का अनुपम मेल है
    वीर सावरकर का ये इक साधना संगान है

    ये तिरंगा शहीदों का जलियाँवाला बाग़ है
    ये तिरंगा क्रांति वाली पुण्य पावन आग है
    क्रांतिकारी चंद्रशेखर का ये स्वाभिमान है

    कृष्ण की ये नीति जैसा राम का वनवास है
    आद्य शंकर के जतन-सा बुद्ध का सन्यास है
    महावीर स्वरूप ध्वज ये अहिंसा का गान है

    रंग केसरिया बताता वीरता ही कर्म है
    श्वेत रंग यह कह रहा है, शांति ही धर्म है
    हरे रंग के स्नेह से ये मिट्टी ही धनवान है

    ऋषि दयानंद के ये सत्य का प्रकाश है
    महाकवि तुलसी के पूज्य राम का विश्वास है
    ये तिरंगा वीर अर्जुन और ये हनुमान है

    - राजेश चेतन

  12. #12
    Member Eshasachdeva's Avatar
    Join Date
    Sep 2008
    Location
    Jodhpur , Rajasthan
    Posts
    81
    Thanks
    0
    Thanks
    Thanked 0 Times in 0 Posts
    Rep Power
    6
    Location:
    Jodhpur , Rajasthan
    Country:
    India

    Default भारत माता वंदना

    हे हिममुकुट धारिणी मात भारती।
    देवदुर्लभ जगतवंदित मात भारती।।

    अखिल विश्व लहराए पताका आपकी।
    जय हो सदा आपकी मात भारती।।

    माँ आप शीतलता लिए हिमालय की।
    अमृत जल-धारा गंगा यमुना की।।

    चरण प्रक्षालन करता हिंद सागर है।
    माँ ममता का आप अथाह सागर हैं।।

    हे शस्य श्यामला जय हो मात भारती।
    अखिल विश्व लहराए, पताका आपकी।।

    नवनीत कुमार गुप्ता

  13. #13
    Member Eshasachdeva's Avatar
    Join Date
    Sep 2008
    Location
    Jodhpur , Rajasthan
    Posts
    81
    Thanks
    0
    Thanks
    Thanked 0 Times in 0 Posts
    Rep Power
    6
    Location:
    Jodhpur , Rajasthan
    Country:
    India

    Default

    हिरण्यगर्भे! जगद-अंबिके!
    मातृभूमि! जय हे!

    अमरनाथ से रामेश्वर तक,
    सोमनाथ से भुवनेश्वर तक।
    मेघालय - बंगाल - चेन्नई,
    अंदमान, गोआ-परिसर तक।
    शस्य-श्यामला, प्राणदायिनी!
    पुण्य भूमि! जय हे!

    है पीयूष-वारि की धारा,
    सूर्य-सोम ने जिसे दुलारा।
    पवन प्राण देता नव पल-पल,
    षड ऋतुओं ने सदा सँवारा।
    रज सिंदूर अर्गजा जैसी,
    देवभूमि! जय हे!

    अंतरिक्ष, मेदिनी, वनस्पति,
    देती जिसको शांति नित्यप्रति।
    आदि- स्थान विद्या का, देता
    ज्ञान विज्ञान बृहस्पति।
    वेदों की अवतार मही,
    ऋषि-वृंद-भूमि जय हे!

    गंगा- गोदावरी- नर्मदा,
    देती जीवन-दान सर्वदा।
    मांधाता, विक्रमादित्य, सुर-प्रिय
    अशोक की शौर्य-संपदा।
    राम-कृष्ण-गौतम-गांधी की,
    कर्म भूमि! जय हे!

    जहाँ विविध विचार-धारायें,
    जीवन को सार्थक बनाएँ।
    अनेकता में ऐक्य, ऐक्य में
    अनेकता का पाठ पढ़ाएँ।
    एक चित्त सब एक प्राण,
    आदर्श भूमि! जय हे!

    अकथनीय है गौरव-गरिमा,
    गा न सके कोई कवि महिमा।
    कोटि-कोटि प्राणों में बसती,
    तेरी रम्य रूप-छवि-प्रतिमा।
    अनुपमेय, अनवद्य, अपरिमित,
    धर्म-भूमि! जय हे!

    पूजें आबू-विंध्य-हिमाचल,
    पाँव पखारे सागर का जल।
    ममता का मधु-कोष सदा
    बरसाते हैं लहराते बादल।
    आभामयी मुक्ति-पथ-दात्री,
    पितृ-भूमि! जय हे!

    है गीर्वाण धरित्री पावन,
    जन-कल्याण मही मनभावन।
    देती है आदेश प्रेम का,
    ऋषि-निर्वाण-स्थली सुहावन।
    स्वर्गादपि गरीयसी अनुपम,
    जन्म भूमि! जय हे!

    - प्रो. आदेश हरिशंकर

  14. #14
    Member Eshasachdeva's Avatar
    Join Date
    Sep 2008
    Location
    Jodhpur , Rajasthan
    Posts
    81
    Thanks
    0
    Thanks
    Thanked 0 Times in 0 Posts
    Rep Power
    6
    Location:
    Jodhpur , Rajasthan
    Country:
    India

    Default वंदन मेरे देश

    वंदन मेरे देश-तेरा वंदन मेरे देश
    पूजन अर्चन आराधन अभिनंदन मेरे देश
    तुझसे पाई माँ की ममता
    और पिता का प्यार
    तेरे अन्न हवा पानी से
    देह हुई तैयार
    तेरी मिट्टी-मिट्टी कब है चंदन मेरे देश
    वंदन मेरे देश-तेरा वंदन मेरे देश

    भिन्न भिन्न भाषाएँ भूषा
    यद्यपि धर्म अनेक
    किंतु सभी भारतवासी हैं
    सच्चे दिल से एक
    तुझ पर बलि है हृदय-हृदय स्पंदन मेरे देश
    वंदन मेरे देश-तेरा वंदन मेरे देश

    पर्वत सागर नदियाँ
    ऐसे दृश्य कहाँ
    स्वर्ग अगर है कहीं धरा पर
    तो है सिर्फ़ यहाँ
    तू ही दुनिया की धरती का नंदन मेरे देश
    वंदन मेरे देश-तेरा वंदन मेरे देश

    -चंद्रसेन विराट

  15. #15
    Member Eshasachdeva's Avatar
    Join Date
    Sep 2008
    Location
    Jodhpur , Rajasthan
    Posts
    81
    Thanks
    0
    Thanks
    Thanked 0 Times in 0 Posts
    Rep Power
    6
    Location:
    Jodhpur , Rajasthan
    Country:
    India

    Default देश वासियों याद करो

    देश वासियों याद करो तुम उन महान बलिदानों को।
    देश के खातिर जान लुटाई, देश की उन संतानों को।

    जिनके कारण तान कर छाती खड़ा यह पर्वतराज है।
    जिनके चलते सबके सर पर आज़ादी का ताज है।
    महाकाल भी काँपा जिनसे मौत के उन परवानों को।
    देश वासियों याद करो...

    देख कर टोली देव भी बोले देखो-देखो वीर चले।
    गर पर्वत भी आया आगे, पर्वत को वो चीर चले।
    जिनसे दुश्मन डर कर भागे ऐसे वीर जवानों को।
    देश वासियों याद करो...

    जिनने मौत का गीत बजाया अपनी साँसों की तानों पर।
    पानी फेरा सदा जिन्होंने दुश्मन के अरमानों पर।
    मेहनत से जिनने महल बनाया उजड़े हुए वीरानों को।
    देश वासियों याद करो...

    हँस-हँस कर के झेली गोली जिनने अपने सीनों पर।
    अंत समय में सो गए जो रख कर माथा संगीनों पर।
    शत-शत नमन कर रहा है मन मेरा ऐसे दीवानों को।
    देश वासियो याद करो...

    विकास परिहार

Page 1 of 2 12 LastLast

Thread Information

Users Browsing this Thread

There are currently 1 users browsing this thread. (0 members and 1 guests)

Bookmarks

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •